तीसरा विकल्प या सत्ता में हिस्सेदारी (एक)

तीसरा विकल्प या सत्ता में हिस्सेदारी (एक)

विक्रम बिष्ट

गढ़ निनाद समाचार* 16 जनवरी 2021

नई टिहरी।  उत्तराखंड में भाजपा और कांग्रेस के मुकाबले तीसरे विकल्प की बातें बरसों से उठती रही हैं। लेकिन तमाम कोशिशें धरातल पर उतर नहीं पाई। कारण कई रहे हैं। तीसरे विकल्प की धुरी उत्तराखंड क्रांति दल ही हो सकता था। 1980 के दशक के अंत में और 1994-96 में उक्रांद क्रमशः कांग्रेस और भाजपा के विकल्प के रूप में देखा जाने लगा था। 1989 के आम चुनाव में उत्तराखंड में भाजपा की हैसियत उक्रांद के मुकाबले बहुत कमजोर थी।

विश्वनाथ प्रताप सिंह के नेतृत्व वाला जनता दल और राष्ट्रीय मोर्चा अस्थाई विकल्प था। भाजपा सवर्ण बहुल उत्तराखंड में ओबीसी आरक्षण विरोध के साथ राम मंदिर और उत्तरांचल निर्माण के मुद्दों को जोड़कर 1991 के मध्यावधि चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बन गई। कांग्रेस का संभावित विकल्प माने जाने वाला उक्रांद अपने कुछ नेताओं की नासमझी और अहंकार की वजह से आज इस स्थिति में है कि मीडिया के एक वर्ग में उसकी जगह आम आदमी पार्टी की तीसरे संभावित विकल्प के रूप में चर्चा होने लगी है। केजरीवाल की आप के पास उत्तराखंड में आज तक एक भी ऐसा नेता नहीं है जो प्रदेश तो क्या जिला स्तर पर भी कुछ पहचान रखता हो। जरा उक्रांद से तुलना करें। जिसके पास नेताओं की बड़ी कतार है, बेशक कार्यकर्ता गिनती के हैं। दरअसल तीसरे विकल्प की अवधारणा ही गलत है।….जारी।

Related News
उत्तराखंड बजट 2021-22 एक नज़र में

गढ़ निनाद समाचार* 4 मार्च 2021 गैरसैंण। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए 57 हजार 400 Read more

बड़ी खबर: त्रिवेंद्र रावत ने गैरसैंण को बनाया राज्य का तीसरा मंडल (कमिश्नरी)

गढ़ निनाद समाचार* 4 मार्च 2021 गैरसैंण। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गैरसैंण में तीन महत्वपूर्ण घोषणाएं करके एक Read more

उत्तराखंड राज्य आंदोलन, भुलाये गये नींव के पत्थर-10

विक्रम बिष्ट गढ़ निनाद समाचार* 4 मार्च 2021। दिसंबर 1972 में देवप्रयाग विधायक इंद्रमणि बडोनी की अध्यक्षता में पर्वतीय राज्य Read more

4 मार्च- राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस

डॉ. सुरेंद्र सेमल्टी गढ़ निनाद समाचार* 4 मार्च 2021। करता है राष्ट्र प्रगति तब, पूर्ण सुरक्षित रहता है जब। देश Read more