चार दिवसीय विज्ञान गणित एवं पर्यावरण महोत्सव का शुभारंभ

चार दिवसीय विज्ञान गणित एवं पर्यावरण महोत्सव का शुभारंभ
Grand opening of four day Science Mathematics and Environment Festival
Please click to share News


मुख्य आकर्षण:

  • विज्ञान प्रदर्शनी
  • विज्ञान ड्रामा 
  • पर्यावरण से सम्बंधित मॉडलस

कोटद्वार * गढ़ निनाद ब्यूरो, 27 नवंबर 2019

कोटद्वार: आज बुधवार को चार दिवसीय राज्य स्तरीय डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम विज्ञान गणित एवं पर्यावरण महोत्सव का राजकीय इंटर कॉलेज कोटद्वार में भव्य उदघाटन हुआ। समारोह का उदघाटन मुख्य अतिथि महंत दिलीप रावत विधायक लैंसडाउन ने किया। महोत्सव में प्रदेश के लगभग 500 बाल-वैज्ञानिक हिस्सा ले रहे हैं।  चार दिवसीय महोत्सव में विज्ञान प्रदर्शनी, विज्ञान ड्रामा एवं पर्यावरण से सम्बंधित मॉडलस प्रदर्शित किये जायेंगे।

यह खबर:
“रोटरी क्लब द्वारा राजकीय इण्टर काॅलेज हिसरियाखाल में छात्र-छात्राओं को स्वेटर वितरण” 
भी पढ़ें

महोत्सव के उदघाटन अवसर पर अतिथियों एवं अधिकारियों का बच्चों द्वारा माल्यार्पण कर तथा बैज लगाकर स्वागत किया गया। साथ ही परंपरागत ढोल-दमाऊ वादन भी किया गया।  

महोत्सव का विधिवत शुभारंभ अतिथिओं द्वारा माँ सरस्वती के चित्र का माल्यार्पण कर व दीप प्रज्वलित कर किया गया। साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रभारी रेणु नेगी प्रधानाचार्य आर्य कन्या विद्यालय कोटद्वार के नेतृत्व में छात्र-छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना, स्वागत गीत, एवं रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए। कार्यक्रमों की प्रस्तुति ने सभी उपस्थित दर्शकों का मन मोह लिया।

यह खबर:
छात्राओं को आत्मरक्षा प्रक्षिशण के साथ संविधान दिवस मनाया गया
भी पढ़ें

इस अवसर पर निदेशक अकादमिक शोध एवं प्रशिक्षण उत्तराखंड श्रीमती सीमा जौनसारी, उप जिलाधिकारी कोटद्वार योगेश मेहरा, अपर निदेशक एससीईआरटी अजय नोडियाल, संयुक्त निदेशक एससीईआरटी प्रदीप रावत, उप निदेशक एससीईआरटी राय सिंह रावत, माध्यमिक शिक्षा निदेशक (गढ़वाल मंडल) महावीर सिंह बिष्ट, प्राथमिक शिक्षा निदेशक  (गढ़वाल मंडल) एस पी खाली समेत कई अधिकारी उपस्थित रहे।

इस चार दिवसीय डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम विज्ञान गणित एवं पर्यावरण महोत्सव में प्रदेश के सभी 13 जनपदों से आए लगभग 500 बाल वैज्ञानिक हिस्सा ले रहे हैं। सभी उपस्थित अतिथियों और अधिकारिओं ने विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण मॉडल प्रदर्शनी का अवलोकन किया और बाल वैज्ञानिकों द्वारा तैयार किए गए मॉडलों की प्रशंसा की। साथ ही बच्चों के उज्ज्वल भविष्य एवं चरित्र निर्माण की शुभकामनाएं दी। 

मुख्य अतिथि ने बाल वैज्ञानिकों को सम्बोधित करते हुये कहा कि विज्ञान का पहला आविष्कार अग्नि को मानते है और अग्नि के महत्त्व पर भी प्रकाश डाला। साथ ही उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 श्री अटल विहारी बाजपेयी जी के दिए नारे जय जवान जय किसान जय विज्ञान को साकार करने का सन्देश दिया।  आगे उन्होंने अपेक्षा करते हुए बताया कि विज्ञान और शोध का अधिक से अधिक सही उपयोग होना चाहिए और विध्वंश रूप ख़त्म होना चाहिए।  

निदेशक अकादमिक शोध एवं प्रशिक्षण उत्तराखंड श्रीमती सीमा जौनसारी ने विज्ञान महोत्सव के महत्त्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि विज्ञान प्रदर्शनी, विज्ञान ड्रामा, पर्यावरण से संबंधित मॉडलस में हमारे बाल वैज्ञानिकों ने अनोखा प्रदर्शन किया। अतः हमने विज्ञान महोत्सव को नया नाम  डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम विज्ञान गणित एवं पर्यावरण महोत्सव दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि उत्तराखंड के बाल वैज्ञानिक नये-नये आविष्कार कर अहम भूमिका निभाएंगे।

महोत्सव में वन मंत्री हरक सिंह रावत के जनसम्पर्क अधिकारी, अनुकृति गुसांईं, कोर्डिनेटर अलख नारायण दुबे, विवेक गुप्ता एवं शिक्षक-अभिभावक संघ के अध्यक्ष महेंद्र अग्रवाल, शिक्षक कपिल अग्रवाल सहित कई विशिष्ट अतिथि, अधिकारी, शिक्षक और अन्य लोग उपस्थित रहे।

संबंधित ख़बरें भी पढ़ें:


Please click to share News
admin

admin

Related News Stories