डॉ. रेणु सिंह ने निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून का पद संभाला

डॉ. रेणु सिंह ने निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून का पद संभाला
Please click to share News


 देहरादून।    पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली ने दिनांक 28 मार्च, 2022 को डॉ. रेनू सिंह को वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून के निदेशक के पद पर नियुक्त किया है। डॉ. रेनू सिंह 1990 बैच की भारतीय वन सेवा की मध्य प्रदेश कैडर की अधिकारी हैं। उनसे पहले, श्री ए.एस. रावत, महानिदेशक, भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद के पास निदेशक, एफआरआई का भी अतिरिक्त प्रभार था।

वे विदुषी महिला होने के साथ ही उन्हें अनेक उच्च शैक्षणिक योग्यताएँ प्राप्त हैं। उन्होंने मेरठ विश्वविद्यालय से वनस्पति विज्ञान और वानिकी में स्नातोकोत्तर तथा वनस्पति विज्ञान में एम. फिल उपाधि प्राप्त की हैं। उन्हें यूनिवर्सिटी ऑफ वेल्स, यूनाइटेड किंगडम द्वारा “जेंडर, पार्टिसिपेशन एंड कम्यूनिटी फॉरेस्ट्री : द केस ऑफ़ जॉइंट फारेस्ट मैनेजमेंट इन मध्य प्रदेश” शीर्षक शोध पर पीएचडी से सम्मानित किया गया था। निदेशक एफआरआई के रूप में कार्यग्रहन करने से पहले, डॉ. रेनू सिंह जी भोपाल में मध्य प्रदेश वन विकास निगम के अतिरिक्त प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यरत थीं तथा उन्हें मध्य प्रदेश सरकार के अंतर्गत विभिन्न क्षमताओं में काम करने का व्यापक अनुभव है।

    डॉ रेनू सिंह को वन नीति, वन प्रबंधन और अनुसंधान के मुद्दों में व्यापक अनुभव है। वानिकी क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन अनुकूलन और शमन मुद्दों में उनकी विशेष रुचि है। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (UNFCCC), कन्वेंशन ऑन बायोलॉजिकल डायवर्सिटी (CBD) और यूनाइटेड नेशंस कन्वेंशन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन (UNCCD) जैसे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में विभिन्न जैव विविधता, वन और जलवायु परिवर्तन से संबंधित विषयों में भाग लिया और उनका प्रतिनिधित्व किया। एक फील्ड प्रैक्टिशनर के रूप में, उन्हें मध्य प्रदेश वन विभाग में काम करते हुए ग्रामीण समुदायों को समाहित करते हुए संयुक्त वन प्रबंधन प्रथाओं को लागू करने और जंगल से उनकी आजीविका संबंधी जरूरतों को पूरा करने का व्यापक अनुभव है।

    राष्ट्रीय हित से संबंधी वानिकी अनुसंधान कार्यों के निर्माण, निष्पादन और उनके क्रियान्वयन में वन अनुसंधान संस्थान उनके अनुभव से निश्चित रूप से लाभान्वित होगा। संस्थान के लिए यह गर्व की बात है कि डॉ. रेनू सिंह, डॉ. सविता के बाद दूसरी नियमित महिला निदेशक हैं।

    निदेशक, एफआरआई का कार्यभार सौंपने के दौरान श्री ए.एस. रावत, भा.व.से., महानिदेशक, भा.वा.अ.शि.प. महोदय ने डॉ. रेनू सिंह का स्वागत किया और एफआरआई की प्रमुख गतिविधियों के बारे में जानकारी साझा की। तत्पश्चात डॉ. रेनू सिंह ने विभिन्न प्रभागों के प्रमुखों एवं कुलसचिव, एफआरआई सम विश्वविद्यालय से विस्तृत चर्चा की। इसके अतिरिक्त, डॉ. के.पी. सिंह, वैज्ञानिक-ई एवं प्रचार एवं जनसंपर्क अधिकारी ने अनुसंधान, प्रबंधन एवं विस्तार की विभिन्न गतिविधियों से नवनियुक्त निदेशक महोदया को अवगत कराया। डॉ. अशोक कुमार, वैज्ञानिक-जी की अध्यक्षता में वन वैज्ञानिक संघ ने भी डॉ. रेनू सिंह का स्वागत किया और उन्हें पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन किया।


Please click to share News
Garhninad Desk

Garhninad Desk

Related News Stories