महाविद्यालय नरेंद्रनगर में शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार विषय पर संगोष्ठी

महाविद्यालय नरेंद्रनगर में शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार विषय पर संगोष्ठी
Please click to share News


16 नवंबर, टिहरी  

नरेंद्रनगर, टिहरी: धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय नरेंद्रनगर में उच्च शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार विषय एक दिवसीय संगोष्ठी आयोजित की गयी।  कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ मुख्य अतिथि और प्राचार्या ने दीप प्रज्वलित कर किया। 

संगोष्ठी में मुख्य अतिथि श्री सुबोध उनियाल, कैबिनेट मंत्री ने कृषि एवं पर्यटन उत्तराखंड सरकार उपस्थित थे.  मुख्य अतिथि ने उच्च शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार नवाचार पर विशेष जोर दिया। उन्होंने उत्तराखंड में कृषि एवं पर्यटन की अपार संभावनाओं की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि यदि उत्तराखंड में रोजगार की संभावनाओं पर कार्य करना है तो इन क्षेत्रों में विशेष ध्यान देना होगा। इस अवसर पर कृषि मंत्री ने ऋषिकेश टिहरी राजमार्ग पर महाविद्यालय के संपर्क मार्ग पर यात्री शेड बनाने और महाविद्यालय द्वार बनाने की घोषणा भी की।

उत्तराखंड शासन के दिशा निर्देश पर उच्च शिक्षा में गुणवत्ता उन्ननयन एवं नवाचार, कौशल विकास, क्षमता संवर्धन पर एक दिवसीय राज्य स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन 16 नवंबर को धर्मानंद राजकीय महाविद्यालय नरेंद्रनगर में  किया गया। 

कृषि मंत्री द्वारा समय-समय पर महाविद्यालय को दिए जाने वाले सहयोग के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो0 जानकी पंवार ने विगत वर्षों में कॉलेज की प्रगति एवं  शैक्षिक गतिविधियों की आख्या प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि कॉलेज शिक्षा में बेहतर कार्य करने के साथ ही अपने सामाजिक सरोकारों के प्रति हमेशा तत्पर है। फकोट विकासखंड के अंतर्गत सोनी गाँव को महाविद्यालय द्वारा गोद लिए जाने की बात दोहराते हुए प्राचार्या जानकी पंवार ने कहा कि हमारा प्रयास है कि हम गांव के विकास में अपना भरपूर योगदान दे सकें।


इन्क्यूबेशन एंड इन्नोवेशन पर महाविद्यालय द्वारा किये जा रहे प्रयासों का जिक्र करते हुए पर्यटन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ0 संजय सिंह महर ने कहा कि हमें उत्तराखंड में पारिस्थितिकीय पर्यटन पर ध्यान देने की जरूरत है। इससे न सिर्फ पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा बल्कि यहां का वातावरण पर भी दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा। पर्यटक भी यह समझ पाएंगे कि हमें अपनी पारिस्थितिकी तंत्र को बिना नुकसान पंहुचाये ही सैर का आनंद लेना है।

इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि मुंबई से आये कॉरपोरेट ट्रेनर गुरमीत सिंह मेहताब ने कहा कि उत्तराखंड में पर्यटन के क्षेत्र में असीम संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि मैं उत्तराखंड की संस्कृति एवं प्राकृतिक सौंदर्य से इतना प्रभावित हूँ कि यहां किसी भी प्रकार से सेवा प्रदान करने को मैं प्रतिबद्ध हूँ। उन्होंने उच्च शिक्षा में छात्र एवं शिक्षक समन्वय पर बल देते हुए छात्रों को जीवन मे सफल होने के मूल मंत्र बताए। 

संगोष्ठी के इस मौके पर मुख्य अतिथि द्वारा पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ0 सृचना सचदेवा की किताब “न्यू मीडिया पत्रकारिता का बदलता स्वरूप”  का भी विमोचन किया गया। इससे पूर्व हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ0 अनिल नैथानी ने कॉलेज की शैक्षिक, सांस्कृतिक एवं खेल संबंधी गतिविधियों की एक झलक पेश की। छात्र संघ अध्यक्ष मानवेन्द्र भंडारी ने महाविद्यालय की विभिन्न समस्याओं का जिक्र करते हुए कैबिनेट मंत्री को शीघ्र ही महाविद्यालय में बीए, बीएससी, पत्रकारिता एवं पर्यटन में स्नातकोत्तर क्षाओं के संचालन हेतु ज्ञापन दिया। कार्यक्रम के अंत में मनोविज्ञान की विभागाध्यक्ष डॉ0 सपना कश्यप ने अतिथियों का धन्यवाद किया। 

इस अवसर पर कार्यक्रम की संचालक डॉ सृचना सचदेवा के अलावा, डॉ0 यू0सी0 मैठाणी, डॉ0 चंदा नौटियाल, डॉ0 हिमांशु जोशी, डॉ0 विक्रम सिंह वर्तवाल, डॉ0 संजय कुमार, डॉ0 नताशा, डॉ0 सुधा रानी, डॉ0 मनोज  सुन्द्रियाल, डॉ0 सोनी तिलारा, डॉ0 पूजा, डॉ0 चेतन भट्ट, श्रीमती मीनाक्षी काला, मुकेश रावत, मुनींद्र कुमार, महेश कुमार, अजय आदि उपस्थित रहे।

सम्बंधित खबरें भी पढ़ें: 


Please click to share News
admin

admin

Related News Stories