29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस पर “सोलर वॉटर हीटर” स्टार लेबलिंग कार्यक्रम शुरू

29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस पर “सोलर वॉटर हीटर” स्टार लेबलिंग कार्यक्रम शुरू
Solar-Water-Heater-Labeling-Program-Starts-on-29th-National-Energy-Conservation-Day
Please click to share News


श्री आर. के. सिंह ने 29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस का उदघाटन किया और पुरस्कार प्रदान किए​

शनिवार, 14 दिसंबर * गढ़ निनाद एजेंसी दिल्ली 

मुख्य बातें:

  • नेशनल एनर्जी कंज़र्वेशन डे (एन ई सी) हर साल मनाया जाया है 
  • ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) ने 9 से 14 दिसंबर तक पूरे सप्ताह कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित की

दिल्ली: 29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस मनाया गया. कार्यक्रम का आयोजन ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी–बीईई) ने ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार से किया। 29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस कार्यक्रम में विद्युत और नवीन तथा नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री श्री आर. के. सिंह बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहे। इस अवसर पर राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार भी प्रदान किये गए। 

इस वर्ष ऊर्जा संरक्षण कार्यक्रम विज्ञान भवन में एक सप्ताह की गतिविधियों के माध्यम से मनाया गया। 14 दिसंबर को समापन कार्यक्रम में विभिन्न उद्योगों और प्रतिष्ठानों के विजेताओं और छात्रों के राष्ट्रीय चित्रकला प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए गए।

समापन समारोह पर श्री आर. के. सिंह ने देश के सतत विकास में ऊर्जा संरक्षण के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए CO2 के उत्सर्जन को कम करने के उपाय की आवश्यकता पर जोर दिया। विद्युत मंत्री ने बीईई कार्यक्रम के परिणामों और प्रयासों की सराहना की एवं विभिन्न योजनाओं को लागू करने में ईमानदारी से किए प्रयास करने के लिए उद्योग जगत की सराहना की।

29वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस के समापन अवसर पर सोलर वॉटर हीटर के लिए स्टार लेबलिंग कार्यक्रम शुरू किया गया और ऊर्जा संरक्षण अधिनियम 2001 के प्रावधान के कार्यान्वयन के लिए एक पुस्तिका भी जारी की गई।

इस कार्यक्रम ने ऊर्जा दक्षता हासिल करने में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए विभिन्न क्षेत्रों के 65 उद्योगों और संस्थानों को पुरस्कार प्रदान किया गया। कुल मिलाकर देश भर में 355 इकाइयों और प्रतिष्ठानों ने 10,566 मिलियन यूनिट बचाने के लिए भाग लिया, जो 5,000 करोड़ रूपए से अधिक का है। 

राष्ट्रीय स्तर की पेंटिंग प्रतियोगिता के तहत, दो समूहों के कुल 26 छात्रों को सम्मानित किया गया। पुरस्कार विजेता चित्रों को सरकारी कार्यालयों में प्रदर्शित किया जाएगा।

इस अवसर पर ऊर्जा मंत्रालय में सचिव ने कहा, “ऊर्जा संरक्षण की दिशा में प्रयासों को पहचानने और कार्य करने के लिए हम हर वर्ष एनईसी दिवस मनाते हैं। उन्होंने कहा कि कुशल उपकरणों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए सौर वॉटर हीटर के लिए स्टार लेबलिंग कार्यक्रम शुरू किया है।

यह कार्यक्रम अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के बीच ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था, जिसके बाद औद्योगिक इकाइयों और अन्य प्रतिष्ठानों के लिए पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित किया गया ताकि ऊर्जा के कुशल उपयोग और संरक्षण को बढ़ावा दिया जा सके।

बीईई ने 9 से 14 दिसंबर तक पूरे सप्ताह कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित की. गणमान्य व्यक्तियों और प्रतिनिधियों ने ऊर्जा दक्षता पर विभिन्न पहलों को दर्शाती प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। प्रदर्शनी में वर्तमान प्रगति एवं देश की ऊर्जा सुरक्षा में प्रमुख योगदान को दर्शाया गया था। प्रदर्शनी में राष्ट्रीय चित्रकला प्रतियोगिता के चयनित विजेताओं के चित्रों को भी प्रदर्शित किया गया था। प्रदर्शनी ने इस क्षेत्र की उपलब्धियों के बारे में विशेष रूचि एवं जानकारी रखने वाले दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया।  

बीईई के बारे में  

ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (बीईई) ऊर्जा मंत्रालय के तहत कार्य करने वाला एक सांविधिक निकाय है. यह संस्था ऊर्जा दक्षता और संरक्षण की दिशा में नीति और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए अनिवार्य है। इस तरह की पहल का उद्देश्य हमारे देश में ऊर्जा की मांग को कम करने, ऊर्जा की तीव्रता को कम करने और ग्रीनहाउस गैसों (जीएचजी) के उत्सर्जन को भी कम करना है जो ग्लोबल वार्मिंग (भूमण्डलीय तापमान वृद्धि) और जलवायु परिवर्तन के लिए जिम्मेदार हैं।


Please click to share News
admin

admin

Related News Stories